समय महान

१. किसे सुनाऊॅ कौन सुनेगा,
इस मौसम में मेरे मन की बात प्रिये |
सभी मूक हैं, पर दर्द एक सा,
सबके अपने-अपने झंझावात प्रिये ||

२. खुदा की खुदी पर करले भरोसा,
उसकी रहमत का ऐसा आगाज होगा |
दुश्मन जो बन करके हैं आज बैठे,
ख़िदमत में उन्ही का पहला अल्फ़ाज होगा ||

पं. कृष्ण कुमार शर्मा “सुमित”

1 Like · 16 Views
श्री कृष्ण कुमार शर्मा एम.ए.(हिंदी & शिक्षाशास्त्र), बी.एड., एम.फिल.(हिंदी), पीएच. डी.(हिंदी) अध्ययनरत अध्यापक एवं इंटरनेशनल...
You may also like: