.
Skip to content

समय बड़ा बलवान हुआ है

Kavi Devendra Sharma

Kavi Devendra Sharma

कविता

January 21, 2017

समय बड़ा बलवान हुआ है समय समय पर भारी।
समय रहा जी सबका राजा जिससे दुनिया हारी।।

पलक झपकते सुबह हुई है पलक झपकते शाम।
पलक झपकते जख्म मिले हैं पलक झपकते वाम।।
समय समय की बलिहारी है समय समय पर होता।
कभी कोई तो बहुत दुखी हो दिल से हर्षित होता।।
समय समय की ताकत ऐसी देखे दुनिया सारी।
समय बड़ा बलवान हुआ है समय समय पर भारी।

समय बदला हरिश्चन्द्र का चला गया धनधाम।
राजा मोरध्वज भी हारे समय रहा बलवान।।
समय बदला रामचन्द्र का जंगल जंगल भटके।
सिया चली गईं भाई मरा जब प्रान अधर में अटके।।
समय समय के समय चक्र को न टाल सके नरनारी।
समय बड़ा बलवान हुआ है समय समय पर भारी।।
रीते हुए इंसान को जिसने बना दिया हजारी।
समय बड़ा बलवान हुआ समय समय पर भारी।

पर वही समय जो कृष्ण मित्र पर आकर ऐसा चमका।
तीन लोक की मिली सम्पदा समय का दामन दमका।
सुदामा जैसे दीन हीन का इक नया किरदार दिखा।
तीन लोक का मालिक अब तो समय का हकदार दिखा।।

कवि देवेन्द्र शर्मा “देव”

Author
Kavi Devendra Sharma
मैं कवि देवेन्द्र शर्मा " देव " तहसील मीरगंज जिला बरेली से सम्बन्ध रखता हूँ, मैं हिन्दी माँ की विगत पांच वर्षों से सेवा कर रहा हूँ । मैं एक अकिंचन कलमकार हूँ जो जनमानस की प्रिय विधा श्रंगार रस... Read more
Recommended Posts
समय बड़ा बलवान
ताकत का होता नही,जिसको कभी गुमान ! होता है संसार मे,....वही बडा बलवान ! ! समय बड़ा बलवान है,समय करे जब घात ! लगे पूछने... Read more
** समय - बड़ा मूल्यवान **
समय-बड़ा मूल्यवान // दिनेश एल० “जैहिंद” समय बड़ा होता है मूल्यवान । इसके होते हैं थोड़े कद्रदान ।। जिसने समय की कीमत जानी । उससे... Read more
समय ने कहाँ // कविता
इंसान ने समय से पूछा, कब ठहरोगे तुम ? समय ने कहाँ ! मैं अनंत हूँ, मैं परिवर्तनशील हूँ, अतीत से कल की ओर प्रवाहमान... Read more
ग़ज़ल( समय से कौन जीता है समय ने खेल खेले हैं)
ग़ज़ल( समय से कौन जीता है समय ने खेल खेले हैं) अपनी जिंदगी गुजारी है ख्बाबों के ही सायें में ख्बाबों में तो अरमानों के... Read more