समय की पगडंडियों पर

समय की पगडंडियों पर
चल रहा हूँ मैं निरंतर
कभी दाएँ , कभी बाएँ,
कभी ऊपर , कभी नींचे
वक्र पथ कठिनाइयों को
झेलता हूँ आँख मींचे
कभी आ जाता अचानक
सामने अनजान सा डर
साँझ का मोहक इशारा
स्वप्न-महलों में बुलाता
जब उषा नवगीत गाती
चौंक कर मैं जाग जाता
और सहसा निकल आते
चाहतों के फिर नये पर
याद की तिर्यक गली में
कहीं खो जाता पुरातन
विहँस कर होता उपस्थित
बाँह फैलाये नयापन
रूपसी प्राची रिझाती
विविध रूपों में सँवर कर
-त्रिलोक सिंह ठकुरेला

1 Like · 2 Comments · 53 Views
Copy link to share
त्रिलोक सिंह ठकुरेला कुण्डलिया छंद के सुपरिचित हस्ताक्षर हैं.कुण्डलिया छंद को नये आयाम देने में... View full profile
You may also like: