.
Skip to content

समय का फेर

aparna thapliyal

aparna thapliyal

लघु कथा

November 3, 2017

आज सालों बाद पैतृक गाँव आना हो पाया,विदेश में जन्मे बढे बच्चों को अपनी जमीन से जो मिलाना था।लंबरदार की हवेली पर नजर पडते ही पल भर में अपना सारा बचपन चित्रपट की मानिन्द आँखों के सामने से गुजर गया,गाँव भर के छोटे छोटे बच्चे तख्ती -भोल्खा ले कर पाठशाला जाया करते ,वन ,टू, थ्री से अभी तक साक्षात्कार भी नहीं हुआ था,एक,दो, तीन ,चार ही समझ आते थे ,अगर कोई कह दे टू ,थ्री,फोर तो भाईसाहब खुद पर ग्लानी होने लगती थी,
हैं ! ये कौन सी भाषा?
कभी कभी संध्या समय वो बच्चों को अपनी चिकने कागज वाली चमचमाती ,रंगीन तस्वीरों से भरी पुस्तकें दिखा ललचाता…
जब बच्चे पास आते तो लम्बरदार उन्हैं हकाल देता..पीछे हटो…
छूना नहीं,गंदी हो जायेगी…
भागो….
तुम्हारे बाप ने भी देखी कभी …

बेचारे भोले भाले बच्चे ,घिस कर चमकाई गई तख्ती झुलाते और खडिया के घोल से भरा भोल्खा साथ पोरी की कलम ले पाठशाला के लिए निकलते जब लम्बरदार के आलीशान घर के सामने से गुजरते तो खुद को बहुत बौना महसूस करते।
इस लिए नहीं कि लम्बरदार का घर आलीशान था बल्कि इस लिए कि उसका पोता अन्ग्रेजी स्कूल की यूनीफार्म पहन कर जरूर कहता यस,व्हाट,हेअर,देअर,ही,शी ,अब समझ तो कुछ आता नहीं था पर सबका बालमन इंफिरियोरिटि काम्पलेक्स से ग्रस्त,यार इसे तो जाने किस किस ग्रह की भाषा आती है ,पक्का एक दिन चाँद पर जायेगा।और हम शायद धरती पर रेंगने वाले कीडे बन जायेगे …
हुर्र…..ट…ट…ट
बर्र…..बर्र……
आवाज पर कान खडे हो गए

वही लम्बरदार का पोता डन्डी फटकारते भैस चराने निकलते दिखाई दिया….
अपर्णाथपलियाल”रानू”
३०.१०.१७

Author
Recommended Posts
याद मेरे गाँव की
मुझे सोने नहीं देती, खुश होने नहीं देती, याद मेरे गाँव की, याद मेरे गाँव की। जिस आँगन में बचपन बीता वो सूना पड़ा है,... Read more
जब भी सुनी बात....
जब भी सुनी बात खुले वातावरण की गाँव की कल्पना मन में उभर आयी जब भी मन ऊबा शहर की तंग गली से गाँव का... Read more
कुण्डलिया- दिल्ली की वायु
कुण्डलिया- दिल्ली की वायु ●●●●●●●●●●●●●● देखो रहकर गाँव में, सुविधाओं से दूर। मिलती है ताजी हवा, हरियाली भरपूर। हरियाली भरपूर, नहीं होती बीमारी। पर दिल्ली... Read more
गीत- मन के छोटे लोग बहुत बच के रहना...
गीत- मन के छोटे लोग बहुत बच के रहना... ★★★★★★★★★★★★★★★★★★★ बिन सोचे तुम खो मत जाना अनजाने के प्यार मेँ मन के छोटे लोग बहुत... Read more