Apr 7, 2020 · कविता

समय का चक्र

कल गद्दी पर बैठेंगे राम
सुन हर्षित हुई जनता तमाम ।

पर वक़्त कहाँ यह चाहता था
उसका कुछ और इरादा था ।

रानी ने तब वचन मांगा
बेटे के लिए शासन मांगा ।

और मिला राम को वन का वास
हुए निष्फल सारे प्रयास ।

पर राम को वचन निभाना था
उनको तो वन में जाना था ।

जब कर्म खेल दिखलाता है
भगवान भी नही बच पाता है ।

तब मानव की भी क्या बिसात
जो काट सके भाग्य की बात

जब राम चले गए वन में
तो दशरथ भी गए शयन में ।

जब चक्र समय का चलता है
तो उगता सूरज ढलता है ।।

– चिंतन जैन

1 Like · 1 Comment · 16 Views
Chintan Jain
Chintan Jain
Pirawa ( rajsthan )
47 Posts · 342 Views
अपनी हार में भी जीता रहूंगा मैं हमेशा एक विजेता रहूंगा ।। Www.Instagram.com/chintan_uphar
You may also like: