" ---–------------------------- समय का ईशारा है " !!

ये जो तेरी आंखें हैं , जीने का सहारा हैं !
प्यास है कि घटती नहीं , सावन का नज़ारा है !!

बगावत हुई जग से , पराये लगे अपने !
पलको पे आँसूं पले , स्वाद मिला खारा है !!

हसरतें जवां हो गई , सपने लगे पलने!
आज हो न हो अपना , कल तो हमारा है !!

जागीरें हैं बेनामी , चरित्तर हैं सब खोखले !
लुटे यहां जनधन है , वोट बस हमारा है !!

मीडिया नहीं है खरा , कमाई करे नित नयी !
मुद्दों को देना हवा , इसे लगे न्यारा है !!

गोलियां धमाके हैं , धुंआ धुंआ मौसम है !
संगीनों पे जां है टिकी , देश हमें प्यारा है !!

रंगों के मेले हैं , खुशबूओं के डेरे हैं !
घटा बनके बरसो तुम , समय का इशारा है !!

बृज व्यास

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 244

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share