.
Skip to content

समझ बैठा था बुत लेकिन….

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

गज़ल/गीतिका

February 11, 2017

झुकी थी जो अभी तक, वह निगाहें खेलती सी है l
समझ बैठा था बुत लेकिन ,जुबा भी बोलती सी है ll

खड़ी ऊंची हवेली जो, बहुत कुछ कह रही जग से l
घरों की बंद जो खिड़की, कहानी खोलती सी है ll

मिटाने में लगे एक पल, उसे हस्ती समंदर की l
तेरी औकात हे शबनम ,सुबह भी तोलती सी है ll

समय का खेल है ऐसा, पड़ा है खेलना सब को l
उठाओ हाथ देखो भी ,लकीरें बोलती सी हैं ll

रखो तुम राज सब अपने, दबा वक्त की किताबों में l
सवालों की फसल फिर ए हवाएं रोपती सी है ll

बचा रखा “सलिल” हमने बिखरने से ज़माने को l
कहीं आए ना फिर तूफा ए बातें चीरती सी है ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़ ,उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II  एक चितवन से.....II
एक चितवन से ए मन चपल हो गया l बात कुछ तो रही जो विकल हो गया l जाने क्या कह गई अधखुली सी पलक... Read more
गुजरा हुआ जमाना
दिनों के बाद गुजरा सामने से आशियाने के l मिले फिर से कई किस्से मुझे बीते जमाने के ll मिली सूनी पड़ी कोई हवेली राह... Read more
II  यादें सता रही है  II
यादें सता रही है गुजरे हुए दिनों की l जो साथ में गुजारे उन कीमती पलों की ll क्या बात मैं बताऊं कहती जो ए... Read more
II...आजकल बदला ये मौसम...II
सोच कर ही वोट दो, या नोट को खर्चा करो l कान से सुन मन गुनो, फिर जा कहीं चर्चा करो ll हैं फजाओ में... Read more