*समझ ऊपर वाले की रज़ा*

लुटने में नहीं लुटाने में मजा !
इसी में ऊपर वाले की रज़ा !!
दुश्मन को माफ़ करना ही !
उसकी सबसे बड़ी सज़ा !!

समझ ऊपर वाले की रज़ा !
देगा वो तुझसे बेहतर सज़ा !!
नियत साफ़ रख अपनी !
और उठा जिंदगी का मजा !!

जिसको देते नहीं हम सज़ा !
देता है उसे ऊपर वाला सज़ा !!
तू बस अपना कर्म करे जा !
मिलेगी बुरे कर्म वाले को सज़ा !!

6 Likes · 3 Comments · 108 Views
*Writer* & *Wellness Coach* ---------------------------------------------------- मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी...
You may also like: