समझे कैसे ….

समझें कैसे….
◆◆◆◆◆◆

भीतर कुछ
बाहर कुछ
दोगले
हो चुके व्यवहारों को
समझें कैसे ?
जो नहीं है वही
बढ़ा-चढ़ा कर दिखाने वाले
चोंचलें
बन चुके जीवन को
समझें कैसे ?
किसी के लिए जो सही
दूसरे के लिए वही सही नहीं
खोखले
हो चुके मानदंडों को
समझें कैसे ?
कर रहा हर कोई
खुश रहने की झूठी कोशिशें
टोटके
बन चुकी खुशी को
समझें कैसे ?
खो चुके आधार-मूल्य
पोपले
बन चुके समाज को
समझें कैसे ?
समझने के लिए क्या चाहिए ?
चाहिए बस एक ठोस आधार
करुणा का
समता -एकरूपता का
निर्मल झरना जो बहे
अंदर -बाहर निर्बाध-एकरूप
वास्तविक खुशियों भरा
सीधा ,सच्चा
सरल जीवन …
अनिता जैन ‘विपुला ‘

1 Like · 4 Comments · 38 Views
Copy link to share
Lecturer at college . Ph. D., NET, M. Phil. M. A. (Sanskrit , Hindi lit.)... View full profile
You may also like: