*** समंदर बताता है ***

समंदर बताता है कभी वह अपने पर इठलाता है

शहर के शहर बह जाते है तनिक जब मुस्कुराता है ।।

?मधुप बैरागी

नहीँ बोल पाते कब मिश्री घोल पाते

बिनमोल बिक जाते कब तोल पाते

ब्रत करवा- करवा पाते कब अपना

बताओ ओर कब हम घर बोल पाते ।।
?मधुप बैरागी

1 Like · 18 Views
मैं भूरचन्द जयपाल 13.7.2017 स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर...
You may also like: