सब्र

सभी कहते है सब्र करो
सब्र का फल मीठा होता है ।
बरसो से तो सब्र ही करते आ रही हूँ
पर ना जाने इसका फल कब मिलेगा ।
कहते है सब ईश्वर पर विश्वास रख,
समय आने पर वह झोली भर देगा ।
तकदीर में जो है वो तुम्हें मिलकर रहेगा,
लाख छटपटाओ समय से पहले कुछ ना मिलेगा ।
बस करता जा कर्म अपना जब वक़्त आयेगा,
तब तेरे आगे पूरा जमाना झुकेगा ।
अंधेरी रात भी कट जायेगी मंजिल भी मिल जाएगी,
तू सब्र कर एक दिन तेरी मेहनत रंग लायेगी ।

भावना कुमारी
समस्तीपुर

Like Comment 0
Views 9

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing