· Reading time: 1 minute

सबको है इंतजार

इस जहां में सभी लोगों को
किसी चीज का तो है इंतजार
जो पैदा हुआ है किसी रूप में
करता रहता है वो रोज़ इंतजार।।

जब पैदा हुआ कोई तो उसे
जवानी का होता है इंतजार
जब वो जवां हो जाता है तो
फिर वही बुढ़ापे का इंतजार।।

मां बाप को बच्चों का इंतजार
अब उनके बड़े होने का इंतजार
बड़े हुए तो शादी का इंतजार
फिर उनके भी बच्चों का इंतजार।।

बचपन में खिलौने मिल जाए
सबको यही रहता है इंतजार
दोस्तों संग खेल पाए ज्यादा
हरपल यही रहता है इंतजार।।

किसी को नौकरी का इंतजार
किसी को है दुल्हन का इंतजार
किसी को दूल्हे का है इंतजार
हर तरफ बस इंतजार ही इंतजार।।

आशिक को उसकी मेहबूबा का
पपीहे को बारिश का इंतजार
भूखे को होता रोटी का इंतजार
और प्यासे को पानी का इंतजार।।

मिट जाए गम जिसे छुपाते है हंसी से
उन हंसते चेहरों को भी है ये इंतजार
इंतजार है सच्चे प्रेमियों को भी
कब परवान चढ़ेगा उनका प्यार।।

जिन बूढ़ी आंखों ने सपने देखे कभी
उनको भी है सपने पूरे होने का इंतजार
हमको भी है आपको भी है इंतजार
जिंदगी में कुछ अच्छा होने का इंतजार।।

6 Likes · 163 Views
Like
Author
कवि एवम विचारक
You may also like:
Loading...