" ------------------------------------------------- सबकी आंखें गीली " !!

नही बाल्यपन रहा सुरक्षित, सोच हुई जहरीली !
ममता यहां गुहार लगाये , सबकी आंखें गीली

विद्यालय में कहां है दीक्षा , साधन आमदनी के !
जागी आंखों के सपने हैं , दुनिया है सपनीली !!

सरकारें बेदम लगती अब , हैं शिक्षा शिक्षक कोरे !
खाना , पुस्तक और वजीफा , लागे नीति सजीली !!

गुरु हुआ गूगल अब देखो , घटी महत्ता गुरु की !
मात पिता का घटा दायरा , हुई व्यवस्था ढीली !!

” काम ” यहां सिर चढ़ता दिखता , कोई नहीं अछूता !
धर्म समाज हुऐ दूषित हैं , नीयत हुई हठीली !!

गिरते रोज चरित्र अनेक हैं , गिरती है नैतिकता !
लाज संकोच नहीं शेष यों , पछुआ हवा रंगीली !!

दोस्त हमें अब बनना होगा , साहस भरना होगा !
नई पीढियां लड़ पायेगीं , राहें मिले कटीली !!

बृज व्यास

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 125

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share