कविता · Reading time: 1 minute

*** सफलता का राज़***स्वम का स्वम पर विश्वास******

*ऊँचाइयों को छूना आसान नहीं होता मझधारों को पार करके किनारों तक पहुँचना हर किसी का काम नहीं होता
********
*जो करते हैं काम अच्छे जग में सिर्फ उन्हीं का ही नाम नहीं होता |
अपनी पहचान बनाना इस भीड़ में कभी भी आसान नहीं होता |
********
*बड़ों का साथ पाकर रास्ता आसान हो जाता है |
डगर मंजिल तक तभी पहुँचाती है
जब अपने ऊपर दृढ़ विश्वास
और बड़ों का आशीर्वाद साथ होता है
********
*कार्य पूर्ण तभी होते हैं जब मन में कार्य पूर्ण करने का साहस होता है |जिस पथ को बनाया हमारे बड़ों ने हमारे लिए उसको संवारना हम सभी का काम होता है |
********
*सपना साकार तभी होता है जिसमे भविष्य का साक्षात्कार होता है |
रोज़ जगना और सोना दिनचर्या का एक भाग होता है |
मगर उस दिनचर्या को सुखद और सफल बनाना हमारा ही कार्य होता है
********
*मंजिल आसान तभी होती है जब मस्तिष्क में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है |
स्वम का स्वम पर विश्वास ही संम्पू्र्ण सफलता का राज़ होता है|
********

1 Comment · 83 Views
Like
You may also like:
Loading...