.
Skip to content

* सफर जिंदगी का *

Neelam Ji

Neelam Ji

कविता

June 20, 2017

आसां नहीं सफर जिंदगी का
हर पल इम्तेहाँ होता है ।
दिल जान लगा दे जो अपनी
वही इंसान कामयाब होता है ।
सफर ये जिंदगी का
हर पल इम्तेहाँ होता है ।

कभी सुख तो कभी दुःख
हर शय से पाला पड़ता है ।
कभी हार तो कभी जीत
हर राह से गुजरना पड़ता है ।
सफर ये जिंदगी का
हर पल इम्तेहाँ होता है ।

रंग अनेकों है जीवन के
हर रंग में ढलना पड़ता है ।
बहते पानी सा है जीवन
पत्थर चिर के बहना पड़ता है ।
सफर ये जिंदगी का
हर पल इम्तेहाँ होता है ।

कुछ पल ऐसे भी आते हैं
जीने से मन भर जाता है ।
जीवन तो जीवन है “नीलम”
हर दर्द से गुजरना पड़ता है ।
सफर ये जिंदगी का
हर पल इम्तेहाँ होता है ।

Author
Neelam Ji
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।
Recommended Posts
न कभी भी ख्त्म होने वाला सिलसिला आ फ़िर से निकल चलें उस सूनी सी राह पर, जहाँ न कभी कोई मन्जिल न कोई अपना... Read more
**जिंदगी है दो पल की**
Neelam Ji कविता Feb 25, 2017
जब से जिंदगी को जाना है, बस इतना ही पहचाना है । जिंदगी है दो पल की, कभी हंसाएगी,कभी रुलाएगी । जब जब हंसाएगी, दिल... Read more
हर सफर जिंदगी का
हर सफर जिंदगी का बहुत दुस्वार होता है।। जब दूर कोई ख़ास अपना यार होता है।। जमाना क्या जाने मंजिल पाने की चाहत को।। जीतने... Read more
ज़िंदगी चार पल को न ठहरी कभी, रेत सी हर घड़ी ये फिसलती रही !*********************
ज़िंदगी चार पल को न ठहरी कभी, रेत सी हर घड़ी ये फिसलती रही !******************************* जब अकेले में दो पल को बैठा कभी, याद मांझी... Read more