Skip to content

सपनो का महल

कवि कृष्णा बेदर्दी

कवि कृष्णा बेदर्दी

गज़ल/गीतिका

October 8, 2017

कितनी मेहनत से बनाया था मैंने सपनों का महल
एक आंधी सी चली और इमारत वो हंसी टूट गई
इतनी मुद्दत के बाद किस्मत मुझ पर मेहरबान हुई
तारों की चाल बदली और ये फिर मुझसे रूठ गई.

मेरी साँसों में बस तेरी साँसों की खुशबु बसती थी
लाखों गुल खिलते थे मेरे संग में जब तू हँसता था
तेरी आवाज़ भी सुनने को अब हम है मोहताज़ हुए
इतने बेबस तो हम कभी भी न थे जो हैं आज हुए.

मुझे यकीन है हिकारत और नफरत का बाँध टूटेगा
गिले शिकवे ना रहेंगे और ना ही मुझसे कोई रूठेगा
प्रीत का ऐसा उजाला सारे जीवन को जगमगाएगा
गम के अंधेरों का कोई साया कभी ना पास आएगा.

Share this:
Author
कवि कृष्णा बेदर्दी
कवि कृष्णा बेदर्दी ( डाक्टर) जन्मतिथि-०७/०७/१९८८ जन्मस्थान- मधुराई (तमिलनाडु) शिक्षा मैट्रिक -विलेपार्ले(मुम्बई) शिक्षा मेडिकल - B.A.M.S.(लन्दन) प्रकाशित पुस्तक- हिन्दी_हमराही,अनुभूति,महक मुसाफिर, तेलुगु, हिन्दी-तेलुगू फिल्मों में गीतकार शौक_ डांस,अभिनय,गिटार,लेखन, नम्बर- +918319898597 Email I'd kavibedardi@gmail.com, Facebook link https://m.facebook.com/Bedardi? Twitter_@kavibedardi

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you