Skip to content

“सपनों के खंडहर में “

Dr.Nidhi Srivastava

Dr.Nidhi Srivastava

कविता

November 8, 2016

सपनों के खंडहर में ,
एक लता बेल की,
आज लहरा रही है ,
अंतहीन उमंग में देखो|
साँझ की फैली है उदासी,
मगर,विहगों के कलरव हैं पुकारते ,
नीड़ की खोज में उडान हैं भरते,
भूलकर अपनी सब थकान को|
इन बेलों की भी है चाहत,
उड़ सकूँ कभी मैं खग बन,
नील गगन में कलरव भर,
गोधूली में खो जाऊँ |
अपने भी पर हों सुंदर ,
नहीं रहूँ मैं भी निर्भर ,
मेरी लता हो उन्मुक्त,
दूर देश की सैर करूँ |
नवल निशा का रस पी ,
मैं भी झूमूँ आनन्दित हो ,
भूल जाऊँ सच सारे ,
सपनों के खंडहर में |
…निधि…

Author
Dr.Nidhi Srivastava
"हूँ सरल ,किंतु सरल नहीं जान लेना मुझको, हूँ एक धारा-अविरल,किंतु रोक लेना मुझको"
Recommended Posts
सपनों की गठरी
खुद को मैं खुद में खोज रहा हूँ आजकल मालूम हुआ कि मुझमें मैं बाकी हूँ अभी..... बैठकर अकेला सोचता हूँ अतीत को... और बह... Read more
मुक्तक :-- माँ सपनों में आ जाती है !!
मुक्तक :-- माँ सपनों में आ जाती है !! व्याकुलता तेरे चिंतन की जब मुझको तड़पाती है ! पल में उदास हो जाता हूँ मैं... Read more
जुलाहा   ...
जुलाहा ... मैं एक जुलाहा बन साँसों के धागों से सपनों को बुनता रहा मगर मेरी चादर किसी के स्वप्न का ओढ़नी न बन सकी... Read more
मैं यूँ  तो
मैं यूँ तो "भीष्म प्रतिज्ञ" नहीं, जो वचनों पर डटता आता .. हाँ केशव सी निश्छलता में, ख़ुद को उसके सम्मुख पाता. है अर्जुन जैसा... Read more