सद्आत्मा शिवाला

इंसानियत के ख़ातिर, दूँ मैं प्रेम- प्याला |
पीना अगर तो पी लो, सद्आत्मा शिवाला ||

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता
26-12-2017
…………………………………………………..

शिवाला=शिवालय

उक्त दोहा को वट्स एप, फेससबुक तथा ट्वीटर पर भी पढा जा सकता है

Like 1 Comment 0
Views 102

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share