सदा -ऐ -रूह (ग़ज़ल)

हो रहा है ज़िक्र क़यामत का ज़रा सुन,
खौफ से कांप उठेंगे तेरे जीस्त -ओ-जान .

दिल हुआ आशना ,दे दिया खुद को आजार ,
खून के रंग में क्यों रंग लिया तूने ईमान .

सौदा किया था तुमने मेरा किसके साथ?
यह पड़ी हैतेरी दौलत कमज़र्फ ऐ इंसान !

सच्चे इश्क की चाहत या सुकून पल भर का,
बाज़ार-ऐ-दुनिया में!फिर भी दागदार किया दामां .

तुमने मुझे रुसवा किया ताउम्र ये ले मैं चली !
यह रहा तेरा नामुराद जिस्म, देख ओ नादान!

1 Like · 30 Views
Copy link to share
#25 Trending Author
ओनिका सेतिया 'अनु '
178 Posts · 15.3k Views
Follow 20 Followers
नाम -- सौ .ओनिका सेतिआ "अनु' आयु -- ४७ वर्ष , शिक्षा -- स्नातकोत्तर। विधा... View full profile
You may also like: