23.7k Members 49.9k Posts

सत साहित्य सदा कवि लिखता,

सत्साहित्य सदा कवि लिखता, चाटुकारिता नहीं धर्म है,
वह उपदेशक है समाज का, सच में उसका यही कर्म है l
परिवर्तन लाना समाज में, स्वाभाविक बाधाएँ आयें,
कार्य कुशलता के ही कारण, सम्मानित है, यही मर्म है l

Like 1 Comment 0
Views 4

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Dr. Harimohan Gupt
Dr. Harimohan Gupt
213 Posts · 1.9k Views
डॉ. हरिमोहन गुप्त को मैंने निकट से देखा है l 81 वर्ष की आयु में...