सत्य" नहीं "अर्धसत्य"

ये “सत्य” नहीं “अर्धसत्य” है…

बरसों से “कलम” भी बिकती है
“कलमकार” भी बिकता है…
तभी तो सरेबाज़ार
“विद्या की किताबें” बिकती हैं
सुबह-सुबह “अखबार” बिकता है…

दुनिया ज़रूर पलट कर पूछती
“पत्रकारों” का हाल
पर सच तो ये है…
कोठे की मुन्नीबाई की तरह
अब पत्रकार बिकता है…

Suneel Pushkarna

63 Views
suneelpushkarna@gmail.com समस्त रचना स्वलिखित
You may also like: