सत्य का पथ

चलें सत्य पथ पर सदा,रहे न हिंसा पास।
धर्म नियम पालन करें,धैर्य कर्म विश्वास।
संयम जिसके मन रहे,शुद्ध चित्त मन धीर।
वही स्थविर बन सके,निर्विकार गंभीर।।

Like 1 Comment 1
Views 6

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share