Skip to content

सजाया ख्वाब काजल सा वो आन्सू बन निकलता है

निर्मला कपिला

निर्मला कपिला

गज़ल/गीतिका

August 28, 2016

सजाया ख्वाब काजल सा वो आन्सू बन निकलता है
उजड जाये अगर गुलशन हमेशा दिल सिसकता है

जमाने भर की बातें हैं कई शिकवे गिले दिल के
सुनाउं क्या उसे जो फासला रखकर गुजरता है

न आयेगा कभी वो लौट कर भगवान ‌के‌ घर से
इसी को सोच कर दिल‌ मे वो छाले सा उभरता है।

जहालत छिप नही सकती वो ढींगें मार ले कितनी
घडा आधा भरा हो खूब ऊपर को उछलता‌ है

जलाकत से जहानत नही है लेना देना ‌कुछ
जो जीवन मे कभी तपता नही वो कब निखरता है

जलाये आशियां अपना जो खुद अपनेही हाथों से
नदामत मे दुखी ताउम्र् वो दर दर ‌भटकता है

न करना अब गिले शिकवे न करना बात गैरों की
मुहब्बत के लिये भी वक्त् यूं कब रोज मिलता है

निभाता कौन उल्फत है यहां ताउम्र सोचो तो
जिसे भी दोस्त समझो वही दुश्मन निकलता है

खुशी तक्सीम करता है गमों को जोड देता है
वो जीवन के गनित मे जब भी निर्मल से बहसता है

Share this:
Author
निर्मला कपिला
लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी], [प्रेम सेतु], काव्य संग्रह [सुबह से पहले ], शब्द माधुरी मे प्रकाशन, हाईकु संग्रह- चंदनमन मे प्रकाशित हाईकु, प्रेम सन्देश मे 5 कवितायें | प्रसारण... Read more

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you