सज़ा

हर बार मिली है मुझे अनजानी सी सज़ा,

मैं कैसे पूछूं तकदीर से मेरा कसूर क्या है।

Like 3 Comment 0
Views 9

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share