.
Skip to content

सच में लगा इंसान सा……

Dinesh Sharma

Dinesh Sharma

कविता

September 5, 2016

एकांत में
चुपचाप सा
शांत सा
मगन में मगन
इंसान सा,
तल्लीन किसी लय में
ऊँगली से बजती चुटकी को
संगीत बना,
कुछ गुनगुना रहा था मन ही मन
दिल के शब्द,
जो उसके गीत बन गये
चुटकी की संगीत के साथ,
सकुन के पल थे वो
बेफिक्र सा चेहरा
सच में लगा इंसान सा
जो डूबा था अपने गीत में
अपने संगीत में,
न हार में, न जीत में
अपनी ही दुनियां में खो रहा था
सो रहा था चैन की नींद
कुछ पल ही सही,
इस दुनियां में
सच में लगा इंसान सा।

^^^^^^^दिनेश शर्मा^^^^^^^

Author
Dinesh Sharma
सब रस लेखनी*** जब मन चाहा कुछ लिख देते है, रह जाती है कमियाँ नजरअंदाज करना प्यारे दोस्तों। ऍम कॉम , व्यापार, निवास गंगा के चरणों मे हरिद्वार।।
Recommended Posts
आदमी सा लगा....।
आदमी सा लगा.......।। बड़ा अजीब मंजर था जानाजे का उसके.। वहां मौजूद हर सख्श बुझा बुझा सा लगा.। न पूछ उसके मरने का सबब मुझसे.।... Read more
जनक छंद में तेवरी
छंद विधान: मापनी: हर प्रथम पंक्ति में मात्राएँ 22 22 212 =13 हर दुसरी पंक्ति में 22 22 212, 22 22 212 अर्थात इस तरह... Read more
विचलित सा मन
विचलित सा मन है मेरा कभी तरु छाया के अम्बर सा कभी पतझड़ के ठूंठ सा कभी प्रसन्न मैं,कभी दुखी क्रोधित सा मैं भींगा-भांगा सा,डरा... Read more
सखी और सम्बन्ध
न कोई है रिस्ता न कोई है नाता शायद इसे लिखने भूले बिधाता अगर धागे उससे जुड़े ही न होते तो हर रोज उसको क्यों... Read more