Skip to content

सच कहता हूँ…

आनन्द कुमार

आनन्द कुमार

कविता

February 12, 2018

सच कहता हूँ मैं
मेरी बात पर गौर करो
बुरी संगत में पड़कर
न अपने आप को बर्बाद करो।

भूल चुके हो अपने आप को
कि कौन हूँ मैं
अरे इन्सान हो
इन्सानियत पर न वार करो ।

मनुज है तू ,असंवेदित प्राणी नहीं
क्या सो गया है तेरा जमीर
तेरी आँखों में पानी नहीं ।

जिस राह पर तू चल रहा है
सीना तानकर
क्या जानता है, तुझे ये ले जायेगा
किस मोड़ पर ।

इसलिए…
सच कहता हूँ
मेरी बात पर गौर करो
इन्सान हो
इन्सानियत पर न वार करो ।।
– आनन्द कुमार

Share this:
Author
आनन्द कुमार
From: हरदोई (उत्तर प्रदेश)
आनन्द कुमार पुत्र श्री खुशीराम जन्म-तिथि- 1 जनवरी सन् 1992 ग्राम- अयाँरी (हरदोई) उत्तर प्रदेश शिक्षा- परास्नातक (प्राणि विज्ञान) वर्तमान में विषय-"जीव विज्ञान" के अन्तर्गत अध्यापन कार्य कर रहा हूँ । मुख्यत: कविता, कहानी, लेख इत्यादि विधाओं पर लिखता हूँ... Read more
Recommended for you