.
Skip to content

सच्चाई दिखलाता हूँ

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

कविता

March 28, 2017

नित्य कर्म की तरह सुबह कार्यशाला के लिए प्रस्थान करने से पहले
तैयार होते हुए जीवन की व्यस्तता में टीवी पर खबरे देख सुन रहा था !
कितनी करते है हम बड़ी बड़ी बाते शिक्षा और विकास का दम भरते है
दिखावे की दुनिया में जीते है आज भी हम ये ताना बाणा बुन रहा था !!
!
!
हकीकत क्या है सही है या गतल है
तुमको मैं बतलाता हूँ !
हो सके तो दो पल को विचार करना
सच्चाई दिखलाता हूँ !
!
!
पहली खबर में नव संवत्सर, हिंदी नववर्ष की मिली बधाई थी
दूजी खबर में नवरात्रो के प्रारम्भ की शुभकामनाये भी पाई थी
तीसरी खबर जैसे सुनी उसने मेरे दिल की दुनिया हिलाई थी
आज फिर एक लावारिश नवजात बच्ची कूड़े के ढेर में पाई थी !!
!
!
!
डी. के. निवातिया

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
मै जुगनू हूँ रात का राजा !
लंगड़ लूला लोच नही हूँ ! किसी के सर का बोझ नही हूँ !! चम चम चमके जुगनू है हम ! कीड़े मकोड़े काकरोच नही... Read more
ऐसे मैं दिल बहलाता हूँ..
ऐसे मैं दिल बहलाता हूँ.. जीवन के उन्मादों को सहता जाता हूँ, कभी -२ तो डरता और सहमता भी हूँ, पर ऐसे मैं अपना दिल... Read more
मैं तुमसे मिलके ऐसा हो गया हूँ
मैं तुम से मिलके ऐसा हो गया हूँ हज़ारों में भी तन्हा हो गया हूँ न कोई कारवां ना हम सफ़र है मुसाफ़िर हूँ अकेला... Read more
कुछ शब्द~८
(१) क्यूँ हर शाम अब सुनी-सी है? कभी जहाँ हम साथ हँसा करते थे। (२) तेरे बग़ैर भी ज़िंदगी गुज़र रही है बड़ी बेचैन दिन... Read more