.
Skip to content

” सचमुच सच्चा सखा चाहिये ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

June 1, 2017

अंतर्मन के भाव हमारे ,
अधरों के मधुगान हमारे !
अनुभूति की हर तरंग को –
छू लें जब उन्मान हमारे !
जीवन में जो राज छिपे हैं ,
उनके लिए दिशा चाहिए |

दिल से दिल की गहराई तक ,
बचपन से ले तरुणाई तक !
रोम रोम में रचा बसा हो –
साँसों की जो गहराई तक !
खुशियां जिसकी झोली में हो ,
रास रचाती निशा चाहिए !!

शिक्षा दीक्षा ज्ञान न कम हो ,
तर्कशक्ति में उसके दम हो !
सहयोग सद्भाव बसा हो –
और कलाओं का संगम हो !
सुख दुख का बंटवारा मुश्किल –
चाहत सबकी ईशा चाहिए !!

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
देख लो दोहे बिहारी के सभी जीवंत हैं
शब्द संयोजन, अटल आधार होना चाहिए । कम सही,थोथा नहीं,कुछ सार होना चाहिए । देख लो दोहे बिहारी के सभी जीवंत हैं, जो लिखो दिल... Read more
दूर हो कर भी कोई पास है/मंदीप
दूर हो कर भी कोई हमारे पास है, हमारे दिल में बसा कोई खास है। लाख कर लो सितम हम पर, दिल को फिर भी... Read more
** आसमां में सर अब उठा चाहिए **
जिंदगी को अब विराम चाहिए आदमी को अब आराम चाहिए कशमकश जिंदगी में बहुत है हल करने को हमराह चाहिए।। जीवन की कश्ती को पतवार... Read more
दिल कहे, 'आना-जाना' चाहिए, रोज़ रोज़, 'नया बहाना' चाहिए।
#सफ़रनामा दिल कहे, 'आना-जाना' चाहिए, रोज़ रोज़, 'नया बहाना' चाहिए। दीदार को, उस रेशमी मुखड़े का अचूक, 'नज़र-ऐ-निशाना' चाहिए। एक से बचे दूजे गस खाके... Read more