.
Skip to content

” ———————————–सचमुच एक बहाना है ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

कविता

August 5, 2017

” तेरा रूठना कह दे बहना –
सचमुच एक बहाना है ” !!

जिन आंखों में आंसू बसते ,
उनमें मोती सजने दे !
अपने हाथों तुझे खिलाऊँ ,
नीर न अब तू बहने दे !
इतना मत रो मेरी बबली ,
क्या मुझे रुलाना है !!

मैं हूँ अबोध तू लगे सयानी ,
यही सभी का कहना है !
है सूझ बूझ नानी दादी सी ,
तू लागे ज्यों गहना है !
जिद थोड़ी अच्छी लगती है ,
औऱ मुसीबत ढाना है !!

सीधे मुंह अब बात भी कर ले,
ज्यादह भाव नहीं खाना !
राखी अब नजदीक आ गई ,
कहीं तुझे ना पड़े मनाना !
गिफ्ट , मिठाई और क्या चाहे –
हँसकर तुझे बताना है !!

बृज व्यास

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
ऐ फरेब-ए-दिल एक मशवरा कर दे,
ऐ फरेब-ए-दिल एक मशवरा कर दे, तू उसके खयालो को रवाना कर दे, गर बुलाना हो निगाहों से इशारा कर दे, दिल में सुलगते शोलो... Read more
मुझको वर दे....
? या देवी सर्वभूतेषु, विद्या रूपेण संस्थिता।? ? नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।? जय माँ सरस्वती.....।। जय जय,जय हे माँ शारदे, हे देवी सरस्वती तू... Read more
तन्हा दिल है मेरा
बेबसी हैं बेकसी हैं तन्हा दिल हैं मेरा, रब्बा मेरे रब्बा मेरे मेरे महबूब से तू मिला दे, टुटा हुआ ए दिल मेरा, घायल हैं... Read more
साकी सुरा पिला दे
साकी सुरा पिला दे, सब गम मे'रे मिटा दे, कर इस नशे से' पागल, खुद से मुझे मिला दे, हैं आंख में बसा जो, वो... Read more