सखियों के संग .....

सखियों के संग तेरा मुस्काना गजब हो गया है
नजरो को झुका कर तेरा उठाना गजब हो गया है
मेरे दिल को कर के घायल ,
रेशमी दुपट्टा उड़ा कर तेरा सर्मना गजब हो गया है।
(अवनीश कुमार 45)

Like Comment 0
Views 104

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share