23.7k Members 50k Posts

संस्कार

क्या कहूँ जब पापा और ,माँ झगड़ रहे थे ,
बिजली कड़क रही थी ,बादल गरज रहे थे.
इधर से दनादन थप्पड़ ,टूटी थी चारपाई ,
उधर से भी चौकी और,बेलन बरस रहे थे.

जमने की थी बस देरी , औकात की लडाई,
बेचारे पूर्वजों के ,पुर्जे उखड रहे थे.
अरमान पडोसियो की , मुद्दत से पड़ी थी सुनी ,
वारिस अब हो रही थी ,वो भींग सब रहे थे.

मिलता जो हमको मौका ,लगाते हम भी चौका ,
बैटिंग तो हो रही थी , हम दौड़ बस रहे थे.
इन बहादुरों के बच्चे , आखिर हम सीखते क्या ,
दो चार हाथ को बस , हम भी तरस रहे थे.

2 Likes · 2 Comments · 12 Views
AJAY AMITABH SUMAN
AJAY AMITABH SUMAN
FARIDABAD
53 Posts · 340 Views
अजय अमिताभ सुमन अधिवक्ता: हाई कोर्ट ऑफ़ दिल्ली मोब: 9990389539 E-Mail: ajayamitabh7@gmail.com पिता का नाम:श्रीनाथ...
You may also like: