.
Skip to content

संवेदना घर

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

मुक्तक

February 23, 2017

सत्य, नायक वही जो नव चेतना भर |
राष्ट्र को उत्थान दे, जन-वेदना हर|
छिपा है आनंद, निज की आतमा में|
मन स्वयं ही जाग बन,संवेदना-घर|

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
वह सु रचना देश का  सम्मान है |           छिपी हो जिसमें सजग संवेदना|
राष्ट्रहित गह दिव्यता,दे चेतना | छाँट दे जो सहज में जन-वेदना | वह सु रचना देश का सम्मान है | छिपी हो जिसमें सजग संवेदना... Read more
आँखें हृदय का द्वार हैं, संवेदना संचार हैं!
आँखें आँखें हृदय का द्वार हैं, संवेदना संचार हैं! महसूस करती हैं कशिश, अहसास प्यार दुलार सब जीवंतता का गुण अनोखा, प्रेम का आधार हैं,... Read more
संवेदना
"संवेदना" -------------- हे ! दीपशिखा क्या बतलाऊँ ? मेरे दिल के दर्द को ! छोड़ गया वो मुझको तन्हा ! कैसे समझाऊँ मर्द को ||... Read more
कितनी संवेदनायें उग आती हैं पल भर में , कुछ मुठ्ठी छींट देती हूँ गीले कागज़ों पर , और अंकुरित होकर जब ये फूट पड़ती... Read more