.
Skip to content

संयोग मे योग करो श्रम को

Vindhya Prakash Mishra

Vindhya Prakash Mishra

कविता

September 12, 2017

संयोग मे योग करो श्रम से
सारा दुख पल मे हरण होगा
कोशिश बस कोशिश बार बार
सफलता का इस तरह वरण होगा
केवल खाकर सोने वाले
जीवन है मानो तो इकदिन मरण हो
पल पल अनमोल है जीवन मे
चलो पहला पग सफलता का चरण होगा।

Author
Vindhya Prakash Mishra
Vindhya Prakash Mishra Teacher at Saryu indra mahavidyalaya Sangramgarh pratapgarh up Mo 9198989831 कवि, अध्यापक
Recommended Posts
पल पल अनमोल है जीवन म।
संयोग मे योग करो श्रम से सारा दुख पल मे हरण होगा कोशिश बस कोशिश बार बार सफलता का इस तरह वरण होगा केवल खाकर... Read more
एक बार
Raj Vig कविता Mar 15, 2017
करता रहा मै जिन पलों का इंतजार जिंदगी मे लौट कर नही आए, एक बार । देखा करता था जिन्हे सपनो मे कई बार हकीकत... Read more
**** जिंदगी ***
[[[[ ज़िंदगी ]]]] दिनेश एल० "जैहिंद" ये जिंदगी क्या है....? पल दो पल का खेला है !! ये दुनिया क्या है....? पल दो पल का... Read more
आँचल का एहसास
माँ ! मुझको याद नही परंतु, ऐसा पल आया होगा। प्रसव-वेदना ने पल-पल हि, तुझको तड़पाया होगा।। पाकर गोदी में मुझको फिर, मन यूँ हर्षाया... Read more