.
Skip to content

संज्ञा

Shubha Mehta

Shubha Mehta

कविता

August 27, 2016

जी हाँ, संज्ञा हूँ मैं।
व्यक्ति या वस्तु?
कभी-कभी ये बात
सोच में डाल देती है
रूप है, रंग है
आकार भी है
दिल भी ,दिमाग भी
फिर भी कभी -कभी
लगता है जैसे
वस्तु ही हूँ मैं
जिसे जहाँ चाहे रख दो
मन हो उठा लो
या, शो केस में सजा लो
या फिर उठा के डाल दो बाहर
इक धडकता दिल
तो है सीने में
पर धडकन किसी को
सुनाई न देती
इच्छाएँ,आशाएँ,उम्मीदें भी हैं
जो किसी को दिखाई न देती
अब तो खुद ही भ्रमित हूँ
कि क्या हूँ मैं
निर्जीव या सजीव
बस,संज्ञा हूँ मैं ।

Author
Shubha Mehta
Recommended Posts
मुक्तक
कभी गम कभी मुझको तन्हाई मार देती है! तेरी तमन्नाओं को जुदाई मार देती है! मैं राहे-इंतजार में बैठा हुआ हूँ लेकिन, ऐतबार को तेरी... Read more
बारिश
ये बारिश की बूंदे जो भिगो देती हैं, तेरी यादों को दिल में पीरो देती हैं, हँस के करते हैं याद पर ये रूला देती... Read more
ऐसे मैं दिल बहलाता हूँ..
ऐसे मैं दिल बहलाता हूँ.. जीवन के उन्मादों को सहता जाता हूँ, कभी -२ तो डरता और सहमता भी हूँ, पर ऐसे मैं अपना दिल... Read more
मैं नहीं हूँ कलमकार.....
मैं नहीं हूँ कोई कलमकार बस दे देती हूँ शब्दों को आकार बिन सोचे बिन समझे गढ़ देती हूँ नये शब्दों का भण्डार कभी गहरे... Read more