.
Skip to content

संघर्ष

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

दोहे

August 13, 2016

पल पल करके ही यहाँ,रहें बीतते वर्ष
होते लेकिन कम नहीं, जीवन के संघर्ष

संघर्षों से सीख ली , हमने तो इक बात
हिम्मत से कर सामना ,मिलती भी सौगात

खाली जाते हैं नही , जीवन के संघर्ष
अनुभव के भी रूप में ,ये देते निष्कर्ष

जूझे इनसे रात दिन ,मिला न पर आराम
जीवन पूरा हो गया , संघर्षों के नाम

जीवन के संघर्ष में,होकर कुछ मजबूर
पढ़ लिख कर भी देखिये ,बन जाते मजदूर
डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
संघर्ष करो संघर्ष करो संघर्ष हमारा नारा हो। जीवन पथ पर बढे चलो यह जीवन सबसे न्यारा हो। लिया जनम धरा पे जिसने वही आंख... Read more
कविता :-- संघर्ष
कविता :-- संघर्ष !! संघर्ष करो ! संघर्ष करो ! संघर्ष करो ! संघर्ष करो !! संघर्ष हो जीने का मक़सद , संघर्ष बिना क्या... Read more
जीवन एक संघर्ष
कई जीत बाकी है कई हार बाकी है अभी जीवन के सार बाकी है अभी तो निकले ही घर से लक्ष्य को पाने को ये... Read more
जीवन एक संघर्ष
मुश्किलें तो आती है जीवन में, मगर रास्ते भी बन जाते हैं। डटकर सामना करते हैं जो मुश्किलों का, सच्चे योद्धा वही कहलाते हैं।। जीवन... Read more