.
Skip to content

संघर्ष

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

कविता

November 8, 2016

जब ,
गहरी ख़मोशी में
तब्द़ील होती है,
बच्चों की किलकारी ।
जब ,
गिरने लगता है स्वेद,
माँ के शांत माथे से ।
जब ,
गीला करती हैं धरा को,
पिता की देह से गिरीं
बूँदें पसीने की ।
जब ,
खुली हवा के लिए
तरसते हैं,भाई की
किताब के पृष्ठ
कई दिनों तक ।
जब ,
चलते-चलते ,यक-ब-यक,
ठिठक-ठिठक से
जाते हैं ,पितामह ।
जब ,
जपते-जपते अचानक
चिंता का पर्याय
बनने लगती है,
दादी की हरिनाम की माला ।
जब ,
पड़ोस द्वारा
खोदी खाई पार करने
कम पड़ती है ,
हमारी छलाँग ।
जब ,
ताने समाज के
सुनते हैं, हमारे
कान अनवरत ।
तब ,
कहीं जाकर
होती है शादी
किसी ग़रीब की
बेटी की ।लेकिन-
कितनी आभाहीन …?
कितनी पीड़ा युक्त …..?
बिल्कुल-
प्रसव-वेदना जैसी ।
-ईश्वर दयाल गोस्वामी ।
कवि एवं शिक्षक ।

Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended Posts
चल कही दूर चलते है
चल कही दूर चलते हैं सारे गमों को भूल चलते हैं पीपल की छांव मे नील गगन की बाहों में प्रकृति की गोद में ईश्वर... Read more
पथिक चलते रहो
पथिक चलते रहाे,पथिक चलते रहाे । पीछे मुड़कर न देखाे,दुख ही प्राप्त हाेगा । सुख ताे पलभर का है, राह कांटाे से भरी है। राह... Read more
*मिटने वाली रात नहीं*
*मिटने वाली रात नहीं* ...आनन्द विश्वास दीपक की है क्या बिसात, सूरज के वश की बात नहीं। चलते–चलते थके सूर्य, पर मिटने वाली रात नहीं।... Read more
मुझे इतिहास लिखना है
चलते-चलते तेरे और मेरे हुनर में फर्क बहुत है ऐ मेरे दोस्त, तुझे इतिहास पढ़ना है और मुझे इतिहास लिखना है। कवि अभिषेक पाण्डेय