संघर्ष

************* संघर्ष **********
****************************

तप कर जैसे खूब निखरता है सोना
संघर्षों के बल पर ही मिलता बिछौना

डरा हुआ सहमा पीछे रह जाता है
संघर्षशील मनुष्य मंजिल पाता है

अवरोधक हैं बहुत, आगे न बढ़ पाएं
समय बीत जाने पर रहते पछताए

बार – बार अवसर कभी नहीं मिलते है
जो ना भुनाए , हाथ पीछे मलते हैं

सदियों से यह बात बताई जाती है
प्रयासों से बाजी जीती जाती है

मन के हारे हार , सदा हो जाती है
मनसीरत मन जीत,जीत हो जाती है
****************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

Like 1 Comment 1
Views 4

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share