~~संगीत ही मेरा साथी~~

संगीत ही मेरा साथी
संगीत ही मेरा सारथि
गुजरता हूँ जब में
कहीं से भी अकेला
वो लम्हों को अपने
संगीत से मन को
मेरे रोज है भाती !!

रस्ता न जाने कहाँ
कब कब कट जाता है
वो सुरीली धून मुझे
मन को सुना सुना कर
इतना खुश कर देती
है, की न जाने
मैं कहाँ कहाँ
खो जाता हूँ !!

याद में तेरे ओ
सजन मेरे,
रास्ता इतना
मधुर हो जाता है,
की लगता है
जैसे की तेरी याद
नहीं तून हमसफर
बन के साथ निभाता है !!

अजीत तलवार
मेरठ

Like Comment 0
Views 7

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share