लेख · Reading time: 5 minutes

श्रृद्धा सुमन : महान कवयित्री , गद्य लेखिका डा.महादेवी वर्मा

छायावादी कवयित्री, गद्य लेखिका और स्वतंत्रता संग्राम सेनानी महादेवी वर्मा की आज यानी 11 सितंबर 2020 को 23वीं पुण्यतिथि है।
महादेवी वर्मा का जन्म 26 मार्च 1907 को उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद में हुआ था।
वह पढ़ाई में काफी निपुण थीं। उन्होंने 1921 में 8वीं कक्षा में प्रांत में प्रथम स्थान हासिल किया था। उन्होंने 7 साल की उम्र से ही कविता लिखनी शुरू कर दी थी।
उन्होंने 1932 में प्रयाग विश्वविद्यालय से संस्कृत में एमए किया। यह वह समय था, जब ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ देश में आजादी का बिगुल बजा रहा था। दूसरी ओर महादेवी को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के लिए स्कॉलरशिप मिली थी। वह विदेश जाने को लेकर असमंजस में थीं।
वह महात्मा गांधी से मार्गदर्शन लेने अहमदाबाद गईं। गांधीजी से पूछा, ‘बापू मैं विदेश जाऊं या नहीं?’ गांधीजी कुछ देर चुप रहने के बाद बोले, ‘अंग्रेजों से हमारी लड़ाई चल रही है और तू विदेश जाएगी? अपनी मातृभाषा के लिए काम करो और बहनों को शिक्षा दो।’ यहीं से महादेवी के जीवन की राह बदल गई। महादेवी वर्मा ने महिलाओं की शिक्षा और उनकी आर्थिक निर्भरता के लिए बहुत काम किया।
महादेवी वर्मा का सबसे क्रांतिकारी कदम था महिला-शिक्षा को बढ़ावा देना। उन्होंने इलाहाबाद में प्रयाग महिला विद्यापीठ के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया। पंडित इला चंद्र जोशी की मदद से संस्था के मुखपत्र साहित्यकार के संपादक का पद संभाला।
15 अप्रैल 1933 को सुभद्रा कुमारी चौहान की अध्यक्षता में प्रयाग महिला विद्यापीठ में पहला अखिल भारतीय कवि सम्मेलन हुआ।
1952 में वह उत्तर प्रदेश विधान परिषद की सदस्य चुनी गईं।
उन्होंने 1955 में इलाहाबाद में साहित्यकार संसद की स्थापना की।
1956 में भारत सरकार ने उनकी साहित्यिक सेवा के लिए पद्म भूषण से सम्मानित किया। 1969 में विक्रम विश्वविद्यालय ने उन्हें डी लिट की उपाधि दी। नीरजा के 1934 में सक्सेरिया पुरस्कार और 1942 में स्मृति की रेखाओं के लिए द्विवेदी पदक मिला। 1943 में उन्हें मंगला प्रसाद पुरस्कार और उत्तर प्रदेश के भारत भारती पुरस्कार से भी नवाजा गया। यामा नामक काव्य संकलन के लिए उन्हें देश के सर्वोच्च साहित्यिक सम्मान ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया। साहित्य अकादमी फ़ेलोशिप भी मिली।

हिंदी कविता के छायावादी युग के 4 प्रमुख स्तंभ में सुमित्रानंदन पंत, जयशंकर प्रसाद और सूर्यकांत त्रिपाठी निराला के साथ महादेवी भी प्रमुखता के साथ शामिल की जाती हैं। उन्होंने बाल कविताएं भी लिखीं हैं, जो काफी पसंद करने के साथ सराही भी गईं। उनकी बाल कविताओं के दो संकलन भी प्रकाशित हुए, जिनमें ‘ठाकुर जी भोले हैं’ और ‘आज खरीदेंगे हम ज्वाला’ शामिल हैं। कहने को महादेवी वर्मा को कवयित्री के तौर पर जाना जाता है, लेकिन उन्होंने जबरदस्त कहानियां और संस्करण लिखे हैं, जो साहित्य जगत को समृद्ध करते हैं। महादेवी के काव्य संग्रहों में शुमार ‘नीहार’, ‘रश्मि’, ‘नीरजा’, ‘सांध्य गीत’, ‘दीपशिखा’, ‘यामा’ और ‘सप्तपर्णा’ शामिल हैं, जिसका रसा स्वादन आज भी पाठक करते हैं। कवयित्री होने के साथ-साथ गद्यकार के रूप में भी उन्होंने अलग पहचान बनाई थी। गद्य में रूप उन्होंने ‘अतीत के चलचित्र’, ‘स्मृति की रेखाएं’, ‘पथ के साथी’ और ‘मेरा परिवार’ लाजवाब कृतियां हिंदी साहित्य जगत को दीं। इसी के साथ ‘गिल्लू’ उनका कहानी संग्रह है, जो पाठकों के दिलों में अमिट छाप बना चुका है।

हिंदी की महान लेखिका महादेवी वर्मा के बारे में सूर्यकांत त्रिपाठी निराला ने बड़े ही रोचक अंदाज में कहा था- ‘शब्‍दों की कुशल चितेरी और भावों को भाषा की सहेली बनाने वाली एक मात्र सर्वश्रेष्‍ठ सूत्रधार महादेवी वर्मा साहित्य की वह उपलब्‍धि हैं जो युगों-युगों में केवल एक ही होती हैं; जैसे स्‍वाति की एक बूंद से सहस्त्रों वर्षों में बनने वाला मोती’।

छायावादी युग की चर्चित कवयित्री महादेवी वर्मा की कविताएं, कहानियां और संस्मरण आज भी उतने ही प्रासंगिक हैं, जो पहले थे। दशकों पुरानी उनकी कविताएं और संस्मरण आज भी हमें उसी सादगी भरी दुनिया में ले जाते हैं, जहां एक युवती गुंगिया का दर्द जानने के लिए उसके बोलने का इंतजार नहीं करना पड़ता, बल्कि बस पढ़ने के दौरान बरबस ही गुंगिया का दर्द पाठक महसूस करने लगता है। उनका संस्मरण ‘स्मृति की रेखाएं’ पढ़ने के दौरान महादेवी वर्मा एक चिट्ठी लिखने वाली लेखिका के तौर पर पाठक की आंखों के सामने तैर जाती हैं।

बेशक लेखक अपनी कृतियां दिखता, लगता और कभी-कभी तो हूबहू उतर जाता है। यह महादेवी की कृतियों में झलकता है और इसमें कुछ नया भी नहीं है। सच बात तो यह है कि उनका यह दर्द उनके काव्य का मूल स्वर दुख और पीड़ा है।

महादेवी ने लिखा है- ‘मां से पूजा और आरती के समय सुने सुर, तुलसी तथा मीरा आदि के गीत मुझे गीत रचना की प्रेरणा देते थे। मां से सुनी एक करुण कथा को मैंने प्राय: सौ छंदों में लिपिबद्ध किया था। पड़ोस की एक विधवा वधु के जीवन से प्रभावित होकर मैंने विधवा, अबला शीर्षकों से शब्द चित्र लिखे थे, जो उस समय की पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए थे। व्यक्तिगत दुख समष्टिगत गंभीर वेदना का रूप ग्रहण करने लगा। करुणा बाहुल होने के कारण बौद्ध साहित्य भी मुझे प्रिय रहा है।

महादेवी वर्मा ने संवेदनशील लेखन के जरिए महिलाओं के साथ होने वाले भेदभावपूर्ण रवैए पर गहरी चोट की थी। यही वजह थी कि उनको ‘मॉडर्न मीरा’ के नाम से जाना जाता है।
उनकी काव्य प्रस्तुति के शब्द जो हमें सीख दे जाते हैं, शब्‍द जो हमें पढ़ने के बाद एक टीस दे जाते हैं,

जो तुम आ जाते एक बार

कितनी करुणा कितने संदेश

पथ में बिछ जाते बन पराग

गाता प्राणों का तार तार

अनुराग भरा उन्माद राग

आँसू लेते वे पथ पखार

जो तुम आ जाते एक बार …..

******************

मैं नीर भरी दुख की बदली

विस्तृत नभ का कोई कोना

मेरा कभी न अपना होना

परिचय इतना इतिहास यही

उमड़ी थी कल मिट आज चली

////////////

निजी जीवन

महादेवी वर्मा की शादी तो हुई थी, लेकिन सच्चाई तो यह है कि उन्होंने सफल विवाहिता का जीवन नहीं जिया। उनका विवाह 1916 में बरेली के पास नवाबगंज कस्बे के निवासी वरुण नारायण वर्मा से हुआ, लेकिन यह सफल नहीं रहा। इसके बाद उन्होंने जाने-अनजाने खुद को एक संन्यासिनी का जीवन में ढाल लिया। इसके बाद उन्होंने पूरी जिंदगी सफेद कपड़े पहने। वह तख्त पर सोईं। यहां तक कि कभी श्रृंगार तक नहीं किया। विवाह सफल नहीं हुआ, लेकिन संबंध विच्छेद भी नहीं हुआ। ऐसे में 1966 में पति की मौत के बाद वह स्थाई रूप से इलाहाबाद में रहने लगीं। 11 सितंबर, 1987 को प्रयाग में उनका निधन हुआ।

11 Likes · 19 Comments · 78 Views
Like
361 Posts · 17.5k Views
You may also like:
Loading...