Skip to content

श्री राम (प्रार्थना )

रवि रंजन गोस्वामी

रवि रंजन गोस्वामी

गीत

July 20, 2017

इस अंतस की पीड़ा को,
कौन सुनेगा ?
राम ।
जीवन के इस खालीपन को
कौन भरेगा ?
राम ।
मेरे मन के टेड़ेपन को ,
कौन सुधारे ?
राम ।
इस दुनियाँ के पाप ताप को ,
कौन हरेगा ?
राम ।
देश ,शहर, गलियों को ,
भय से कौन उबारे ?
राम ।
इस युग के असंख्य रावणों को ,
कौन संहारे ?
राम ।

Author
Recommended Posts
भाषा समक अलंकार
राम के अनेक नाम, राम के अनेक धाम, राम के अनेक काम, सेंट परसेंट में। राम की लहर कभी बन के कहर चली, शहर शहर... Read more
राननवमी पर दोहे रमेश के
नवमी तिथि यह चैत की,सजा अयोध्याधाम ! जन्मे थे जहँ आज ही,दशरथ घर श्री राम !! राम राम रटते रहे, करें राम का जाप !... Read more
राम की राजनीति
राजनीति के राम को, मिला बाण का संग I ऊँची सोच से पहले, दोनों ही थे तंग II दोनों ही थे तंग, बड़े पद की... Read more
भली करें श्री राम
(✍हेमा तिवारी भट्ट✍) ?भली करें श्री राम? 'रा' है द्योतक अग्नि का, 'म' शीतल वारि धाम| संतुलन अगर चाहिए, जपिए निशदिन राम||1|| 'र' रावण लंकेश... Read more