.
Skip to content

श्रीराम…..

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

कुण्डलिया

May 29, 2017

? श्रीराम गुणगान ?

राम नाम सुंदर सरस,मेटत है जग ताप।
श्रीहरी विष्णु रूप कौ,पावन पुण्य प्रताप।
पावन पुण्य प्रताप,भरत-सी राखौ प्रीती।
सब विधि हो कल्याण,निभाते रघुपति रीती।
अनुपम भरत-मिलाप,जीव जो जापहि निष्काम।
मिलै चरण कौ ‘तेज’,सदा रक्षक हों श्रीराम।

??????????

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
पाप-पुण्य की नगरी, ये मानव जीवन। पाप-पुण्य की घघरी, ये मानव जीवन।। कर्म रूप हो ईश्वरी, पुण्य कहा जाता है। कर्म रूप हो राक्षसी, पाप... Read more
अक्षय तृतीया पर्व
? आज की साधना ? ??? जलहरण घनाक्षरी ??? ? शिल्प - 8888 चरणान्त लघु लघु? परम् प्रदाता पुण्य पावन पुनीत पर्व परै जु *प्रदोष-पुष्ट*... Read more
** होली के पावन पर्व पर **
****??****** होली के पावन पर्व पर मनभेद मतभेद मिटाकर मेरे सभी मित्रों के लिए मुँह मीठा कीजिए और दिल में मधुर कल्पना करते रहिए सुबह... Read more
छठ पूजा पावन महान
???? छठ पूजा बड़ा ही पवित्र व पावन महान। सादगी पवित्रता का रखा जाता है ध्यान। नदी, तालाब, पोखर किनारे संगठित हो, करते सभी सूर्य... Read more