Skip to content

श्रीराधे की ड्यौढ़ी…..

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

कविता

May 29, 2017

?? जय जय श्रीराधे ??
??????????

कछु नेह आपकौ अद्भुत है,
कछु किरपा है महारानी की।
कछु सद्जन कौ सत्संग मिल्यौ,
कछु महर यमुन के पानी की।
कछु भाव उजागर हैं मन के,
कछु मस्ती मधुर रवानी की।
कछु ‘तेज’ चले तौ जाय पहुंचे,
हम ड्यौढ़ी राधारानी की।

??????????
?तेज, मथुरा✍

Share this:
Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended for you