.
Skip to content

शौक है लेखन पर मैं कॉपी-पेस्ट नहीं करता*

Dr. Mahender Singh

Dr. Mahender Singh

कविता

October 31, 2017

*मैं कौन हु ?
क्या मैं चोर हु ?
पर मैं चोरी नहीं करता,

मै लिखता हु
पर कॉपी पेस्ट,
कॉपीराइट नहीं करता,
क्या लिखना है,
तथ्यों पर गौर नहीं करता,
किस पर लिखु ?
कैसे लिखु ?
जो चाहे जैसे चाहे जब चाहे लिख लेता हु,
पर मैं कॉपी-पेस्ट नहीं करता,

हाँ #मेरे अल्फाज़# मेरे नहीं है,
हाँ जरूरत पड़े तो,
आपके है,
किसी और के है,
पर मैं चोर नहीं हु,
कॉपी-पेस्ट नहीं करता,

ज्वलंत घटनाएं है,
विचार-धाराएं है,
राजनीति है,
धर्म कभी नहीं मरता,
मेरा स्वभाव है लिखना,
पर कॉपी-राइट नहीं करता,

अपनी बात सबसे करता हु,
कुछ नहीं छुपाता,
क्योंकि ..उन्हे मैं अपना समझता हु,
लोग धोखा करते है,
धोखे से वो नीचे गिरते है,
मुझे सतर्क करते है,
वे खुद को नहीं,
मुझे परखते है,
इसलिए मैं उनकी नहीं,
मैं अपनी सोचता हु

मैं लिखता हु,
पर कॉपी-पेस्ट नहीं करता,
मेरा कोई कॉपी-राइट नहीं है,
क्योंकि मैं इतना ज्यादा
इतना गहरा नहीं लिखता,

मुझे मेरे परिवार ने,
पढ़ाई ने समाज ने वैद्य के रुप पहचान दी है काफी है,पेट पालने में,शौकीन हु लेखन का,
डॉ महेन्द्र सिंह खालेटिया,
रेवाड़ी(हरियाणा).

Author
Dr. Mahender Singh
(आयुर्वेदाचार्य) शौक कविता, व्यंग्य, शेर, हास्य, आलोचक लेख लिखना,अध्यात्म की ओर !
Recommended Posts
कोई बतलाए आख़िर क्या करूं मैं
कोई बतलाए आख़िर क्या करूं मैं छुपाऊँ क्या मैं ज़ाहिर क्या करूं मैं 'ब'बातिन हूँ मैं ग़म में चूर लेकिन बहुत खुश हूँ बज़ाहिर क्या... Read more
मैं लिखता हु हर फ़साना मोहब्बत के नाम का .......
मैं लिखता हु,हर फ़साना मोहब्बत के नाम का मैं लिखता हु, हर बात मोहब्बत केे बात का ये दिल पे चोट खाये ही समझेंगे क्यू... Read more
सोचा रात भर मैंने
सोचा रात भर मैंने, मैं क्यों तक़लीफ़ सहता हु, मर्ज़ मेरा तुमको पता है, मैं फिर क्यों दर्द सहता हु, आईने के सामने खड़े होकर,... Read more
बेटी तुझे बचाऊँगा मैं
दृढ़ निश्चय कर लिया है, भेदभावी दीवार गिरा के, दुनिया तुझे दिखाऊँगा मैं, हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं । कलम की धार से , काट...झड़े... Read more