.
Skip to content

शोभा की अभिव्यक्ति

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

April 7, 2017

“शोभा की अभिव्यक्ति”
—————————-
क्या शोभा ?
अभिव्यक्त हो सकती है !
हाँ …………………..
शोभा कि अभिव्यक्ति
हो सकती है |
पर ! यह मुश्किल तो है
लेकिन नामुमकिन नहीं !
गर गौर करें तो
अभिव्यक्त कर सकते हैं
हम शोभा के यथार्थ
और अस्तित्व को……….
स्नेहिल नजरों से !
दिल के एहसास से !
हृदय की धड़कन से !
और मन की तड़पन से !!
क्यों कि शोभा………….
निराकार है !
एकाकार है !
अनिर्वचनीय है !
शोभा का वर्णन
शब्दों से संभव नहीं है |
इसे जानने के लिए
आत्मसाक्षात्कार होना चाहिए
खुद का खुद से !
ताकि उद्भव हो
जानने की जिज्ञासा…..
और पहचाने की शक्ति
वह शोभा ही है…………
जो संसार है !
अलंकार है !
श्रृंगार है !
और
मोतियों जैसा हार है ||
कहने को तो
एक शब्द है
लेकिन अभावों में
शोभा ही एक भाव है ||
यह भक्ति में समाहित
एक शक्ति है…………
बस ! यही सार्थक और
सारभूत अभिव्यक्ति है !
शोभा की ||

—————————–
डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
**** आपका अंदाज ****
खूबसूरत-ए-शोभा नहीं शरीर की आभा जनाब । शोभा-ए-खूबसूरत आपका अंदाज है ।। ?मधुप बैरागी रंजोग़म भुलाने के वास्ते दुनियां को भूलाना होगा अगर दुनियां को... Read more
फूलों में बारूद
तुम्हे शोभा नहीं देता कि तुम आंसों बहाओ आँखें फोड़कर तुमने बेच दी नदी चील को और मगरमच्छ को चिनार तीक्ष्ण चोंच और पैनी नज़र... Read more
बेटियाँ
??? घर आँगन की शोभा.... हैं ये हमारी बेटियाँ इनकी हँसी से खिल उठता है, हमारे घर का कोना - कोना। ?लक्ष्मी सिंह ???? बेटियाँ... Read more
धऱती की शोभा ये तो जगतीकापरिथान: जितेन्द्र कमल आनंद (४८)
घनाक्षरी:: ४८ धरती की ळोभा से तो जगकी का परिधान वृक्ष प्राण- बल ये तो जगत के शोभा- धाम । ये अपने लौंदर्य से रिझाते... Read more