Apr 13, 2021 · कविता
Reading time: 2 minutes

*”शैलपुत्री माँ”*

*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप – शैलपुत्री*
*”शैलपुत्री माँ”*
चैत्र शुक्ल प्रतिपदा नव संवत्सर ,
शुभ मुहूर्त मंगल बेला में।
द्वार सजे रंगोली आम्र पल्लव वंदनवार घर आँगन में।
*शैलपुत्री आन विराजो अंतर्मन में*…! ! !
प्रथम स्वरूपा शैलपुत्री माँ आलौकिक छबि लिए ,
शोभित घट कलश स्थापना
शंख ध्वनि मृदंग बाजे मन मंदिर में।
*”शैलपुत्री आन विराजो अंतर्मन में*…… ! ! !
बाँये हाथ कमल पुष्प सुशोभित दांए हाथ त्रिशूल लिए ,
वृषभ पे सवार होकर श्वेत वस्त्र धारण सुख समृद्धि शांतिपूर्ण जीवन में।
*शैलपुत्री आन विराजो अंतर्मन में*……! ! !
जीवन में छाया घना अंधेरा
चेतना जगाती ऊर्जा शक्ति लिए ,
गहरे *अद्भुत* अनुभव भावनाओं के गहवर में।
ज्ञान की ज्योति जला इस सुने से मन मंदिर में।
*शैलपुत्री आन विराजो अंतर्मन में*…..! ! !
पर्वतराज हिमालय की पुत्री
ममतामयी मैना करुणा लिए,
शिव शक्ति का मिलन जगत का कल्याण करने संदेश जगाते अंतर्मन में।
शैलपुत्री की उपासना हर्ष उल्लास लिए ,
शक्ति का स्वरूप व्याधियों को हरती सारा संसार जपे अंतर्मन में।
*शैलपुत्री आन विराजो अंतर्मन में*……! ! !
रिद्धि सिद्धि वंश वृद्धि करने के लिए,
हॄदय में ज्ञान का भंडार भरे चेतना में ध्यान साधना तल्लीन मन में।
धनधान्य परिपूर्ण करते हुए अद्भुत शक्ति लिए ,
आराधना करने से मनोवांछित फल देती आत्मा को शुद्ध मन में।
*शैलपुत्री आन विराजो अंतर्मन में*……! ! !
चैती चांद नव वर्ष अद्भुत शक्ति उमंग लिए ,
बाँसती नवरात्रि पर्व आस्था विश्वास नये साल में।
दुख दारिद्र दूर कर निरोगी काया लिए ,
चैतन्यता जगाई रोग शोक दूर बिगड़े काम संवारती
अंतर्मन में पधारती लाल पाँव कुमकुम भरे कदमों में।👣
*शैलपुत्री आन विराजो अंतर्मन में*….! ! !
👣🌹🔱🔔🚩🪔
*ॐ शैलपुत्री देव्यै नमः
*जय माँ शैलपुत्री*🙏
*शशिकला व्यास*✍️

3 Likes · 1 Comment · 30 Views
Copy link to share
#16 Trending Author
Shashi kala vyas
307 Posts · 13.1k Views
Follow 19 Followers
एक गृहिणी हूँ पर मुझे लिखने में बेहद रूचि रही है। हमेशा कुछ न कुछ... View full profile
You may also like: