.
Skip to content

शेर

Sajan Murarka

Sajan Murarka

शेर

January 17, 2017

दर्द पर मक्कारी से आंसू बहाने वालों
पलकें तक न भीगी,दिल क्या पसीजेगा

सजन

Author
Sajan Murarka
Recommended Posts
एक शेर
जब खराबी आ गई किरदार में" फिर बुलंदी आए क्या मेयार में।
शेर
कई मदारी परचम ले कर निकले हैं, बस्ती में दो-चार मदारी आने पर,, अशफ़ाक़ रशीद
शेर
Pankaj Trivedi शेर Jan 20, 2017
खामोश खड़े है हम मगर अकेले नहीं मिलकर रहती है शाखा-प्रशाखाएँ यहीं - पंकज त्रिवेदी
शेर
Pankaj Trivedi शेर Jan 20, 2017
मोहब्बत का सरे आम इज़हार न करो बेदर्द ज़माना है खुद का मज़ाक न करो पंकज त्रिवेदी