.
Skip to content

***** शेर ******

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

शेर

November 7, 2017

गफ़लत और गलतफहमियां अक्सर धोखा देती हैं

मगरूर गरूर से जिसे ना दूर किया जा सकता है ।।

?मधुप बैरागी

गलतफहमियां बाज़ार में बहुत सस्ते में बिकती है

कोई सच को बाज़ार से खरीदकर लाये तो जाने ।।

?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि में... Read more
Recommended Posts
***    शेर    ***
कत्ल करके पूछते हो दर्द हुआ या नहीं मुहब्बत करके देखो पता चल जायेगा।। ?मधुप बैरागी लोग तस्वीरें बदलनें में देर नहीं लगाते हैं मगर... Read more
*** मेरे पसंदीदा शेर ***
मैं मशगूल था अपने ही ख्यालों में कब मशहूर हो गया क्या पता ।। ?मधुप बैरागी जख़्म भरे जाते नहीं ज़ाम-ए-शराब से नासूर बन जाते... Read more
*** मुक्तक ***
आजकल शेर मांद में शिकार करने लगे है बाहर अब सियार हुआ हुआ करने लगे हैं शेर के पांव में कांटा क्या चुभा कमबख़्त जीत... Read more
शेर
12.12.16 ******* दोपहर 1.15 समझ नहीं आता इस हुस्न को क्या नाम दूं एक हल्की स्मित सी मुस्कान को क्या नाम दूं ।। ?मधुप बैरागी... Read more