Skip to content

शेर

bharat gehlot

bharat gehlot

शेर

February 28, 2017

वो जो मेरे दर्द ए दि‍ल का पारखी है ,
जि‍से यह जहाॅ माॅ कहता हैं ा
सैलाब आया है आज हमारी ऑखों से,
कि‍ यकबयक मेरे अपनाें ने छोड दि‍या साथ मुफलि‍सी मेंा
वो जो कहते थे अपने ना छोडेेगे साथ मुफलि‍सी में,
आई दबे पाव जालि‍म मुफलि‍सी सारे अपने सपने हो गयें ा
मेेरे अजीजों ने धकेला है मुझे बर्बादी की और,
मेरेे हमदर्दोे ने मुझे आबाद कर दि‍यां ा
मुकम्‍मल था जहां में कोई मुझे बर्बाद करने को,
महफूज हआ में यारब की मेहरबानी सेा
मेरी मौत का सामान तैयार करते हेै मेेरे शनाशाई,
मुझे मेेरे दुश्‍मनों से क्‍या खौफ ा
आजकल लोग रखने लगे है रि‍श्‍तों में मुफीद,
बि‍न मुफीद कोई यहां अपना नहीं कहता,
मेरे अपनों ने मुझे कहीं का ना छोडा ,
दि‍या मुझे दर्द और शायर बना दि‍या,
यु गुरेज ना करना, हमसे मि‍लने पर,
बाहौसला सि‍मट जाना हमारी बांहों में,
वो जो मेरी नब्‍ज को पहचानता है,
वो जो मेेरे दर्द ए हालांत जानता है,
छोड गया मेरा हाथ मुश्‍ि‍कले हालात में वो इस कदर,
क्‍योंकि‍ मुश्‍ि‍कल ही है मेरी नि‍यति‍ वो जानता है ा
उसने मेरा जीना दुश्‍वार कर दि‍या,
हुई उससे मोहब्‍बत जीवन खार-खार कर दि‍या ,
खार-खार हैं हमारी जि‍न्‍दगी,
फि‍र भी हम है कई दि‍लों के बादशाह
अाजकल जीवन में अटक वही डालते हैं,
जो कहते हैं हम आपके अजीज है ा
आजकल रब की मेहरबानी हैं, हम पर
कि‍ जि‍नकी उगली पकडकर कल चले थे,
वो आज हमारा हाथ पकडकर चलते है ा
सरापा खुबसूरत हैं मेरा महबूब ,
जि‍से मेेेरे यार मेरा चॉंद करते है ा
अगर करने जाये उसकी तारीफ तो अल्‍फाज कम पड जाये,
अगर करने आये मोहब्‍बत तो मोहब्‍बत बेशतर हाे जाये,
ये काति‍ल अदा ये काली घटा
बडी बेरहम है हमारी दि‍लरूबा
जीवन में हर कि‍सी को मोहब्‍बत कहा मयस्‍सर होती है,
होता है जो खुशनसीब मोहब्‍बत उसे मयस्‍सर होती हैं ं

भरत कुमार गहलोत
जालोर राजस्‍थान
सम्‍पर्क सूृत्र 7742016184

Author
bharat gehlot
Recommended Posts
गजल
वो मुझ पर सितम ढाती रही रात भर मुझको जगाती रही काश दूर होती ये मुफ़लिसी वो रात भर याद आती रही मुझे अपनी छत... Read more
आइना सच का दिखाता है मुझे
वो बिना कारण रुलाता है मुझे। बाद में खुद ही मनाता है मुझे।। प्यार का इजहार जब से है किया। वो इशारे से बुलाता है... Read more
मेरा वो आखिरी शेर
सोने से पहले लिखा गया मेरा वो आखिरी शेर ; एक पूरे सादे कागज पर तुम्हारे नाम का शेर, रात भर देता रहा आवाज़े और... Read more
मुझे वो दिन बहुत याद आते है
Sonu Jain कविता Oct 30, 2017
वो बचपन के दिन ।। वो हँसना खिलखिलाना ।। वो खेल खिलौनो से खेलना ।। वो रोना फिर मनना ।। मुझे वो दिन बहुत याद... Read more