.
Skip to content

शेर

Dr ShivAditya Sharma

Dr ShivAditya Sharma

शेर

June 20, 2016

।।फर्जी दुनिया।।
बनते हैं शहंशाह, कहते हैं हम किसी से कम नहीं
शेर हैं सब कागज़ के जनाब, है किसी में दम नहीं।

।।दिलबर।।
दिलबर मिले ना दिलवाले
दिलकश दिखने में अंदर से दिल काले

Author
Dr ShivAditya Sharma
Consultant Endodontist. Doctor by profession, Writer by choice. बाकी तो खुद भी अपने बारे में ज्यादा नहीं जानता, रोज़ जिन्दगी जैसी चोट करती है वैसा ही ढल जाता हूँ।
Recommended Posts
मुक्तक
गर ये दिल लापता नहीं होता दर्द का सिलसिला नहीं होता हम जमाने की क्या खबर रक्खें मुझको खुद का पता नहीं होता प्रीतम राठौर... Read more
दो  शेर
Onika Setia शेर Jan 14, 2017
दो शेर १, गुल -ऐ- शौक में कांटे आये हाथ, कितना फख्र था हमें अपने गुलिस्तां परें। २, ग़मों की रात मिली हमें तमाम उम्र... Read more
एक संतान शेर समान
(एक संतान शेर समान" परिवार नियोजन के इस नारे पर एक छंद) हवा बंद है सरकारी नौकर हूं एक पुत्र पैदा किया, शेर के समान... Read more
*** मुक्तक ***
आजकल शेर मांद में शिकार करने लगे है बाहर अब सियार हुआ हुआ करने लगे हैं शेर के पांव में कांटा क्या चुभा कमबख़्त जीत... Read more