कविता · Reading time: 1 minute

शेर..

तसव्वुरात की परछाई उभर आई फिर से

कौन ये अक्स अपना दिखा गया फिर से।

संगीता गोयल
6/8/16

1 Like · 1 Comment · 40 Views
Like
12 Posts · 668 Views
You may also like:
Loading...